वाटर सॉल्युबल विटामिन्स और फैट सॉल्युबल विटामिन्स मे अंतर fat & water soluble vitamins

दोस्तो विटामिन क्या होते है इनके क्या फायदे होते है, हम पहले ही इसके बारे मे बात कर चुके है। इसकी ज्यादा जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करे, विटामिन क्या है और इनके क्या फायदे है। इस पोस्ट मे हम बात करेंगे वाटर सॉल्युबल विटामिन्स और फैट सॉल्युबल विटामिन्स के बारे मे। हमारे शरीर को सभी विटामिन की आवश्यकता होती है, हर विटामिन को लेने की एक निश्चित मात्रा होती है कुछ विटामिन शरीर से बाहर निकल जाते है तो कुछ शरीर मे स्टोर हो जाते है। हम बात कर रहे है वाटर सॉल्युबल विटामिन्स और फैट सॉल्युबल विटामिन्स के बारे मे। कुछ विटामिन पानी मे घुलनशील होते है जिन्हे वाटर सॉल्युबल विटामिन्स कहते है, इनमे शामिल है विटामिन बी और विटामिन सी जबकि कुछ विटामिन वसा मे घुलनशील होते है जिन्हे फैट सॉल्युबल विटामिन्स कहते है, इनमे शामिल है विटामिन A, विटामिन D, विटामिन E, विटामिन K । अब हम बात करेंगे इनके बीच अंतर क्या है

वाटर सॉल्युबल विटामिन्स और फैट सॉल्युबल विटामिन्स मे अंतर Difference in fat soluble vitamins and water soluble vitamins in hindi

वाटर सॉल्युबल विटामिन्स water soluble vitamins

पानी मे घुलनशील विटामिन शरीर मे स्टोर नहीं होते, शरीर इन विटामिनो का उपयोग तुरंत ही कर लेता है और इनकी अतिरिक्त मात्रा शरीर से बाहर निकल जाती है। अगर इन्हे ज्यादा मात्रा मे ले लिया जाये तो ये मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाते है। शरीर मे स्टोर ना होने के कारण इनकी भरपाई लगातार करती रहनी पड़ती है, । हर विटामिन को रोज लेने की एक निश्चित मात्रा होती है। इस प्रकार के विटामिन अगर ज्यादा मात्रा मे ले लिए जाये तो इनके टॉक्सिक हो जाने का खतरा नहीं रहता क्योकि ये शरीर से बाहर निकल जाते है।

फैट सॉल्युबल विटामिन्स fat soluble vitamins

वसा मे घुलनशील विटामिन का अवशोषण छोटी आंत मे होता  है, इनकी अतिरिक्त मात्रा जो प्रयोग मे ना हो लीवर और वसा उत्तको मे स्टोर हो जाती है। ये स्टोर मात्रा का प्रयोग शरीर जरूरत पड़ने पर करता है।  इनका ज्यादा मात्रा मे प्रयोग नहीं करना चाहिये क्योकि इनकी ओवरडोस से इनका टॉक्सिक हो जाने का खतरा हो सकता है। ये शरीर मे ज्यादा समय तक रहते है।

विटामिन की मात्रा RDA of vitamins

हर विटामिन को लेने की एक निश्चित मात्रा होती है। अपना स्वास्थ्य बनाये रखने के लिये आपको विटामिन की जो मात्रा लेनी पड़ती है उसे RDA (Recommended Dietary Allowance) या RDI (Recommended Dietary intake) या AI (Adequate Intake) या DV (Daily Value) कहा जाता है। ये मात्रा महिलाओ और पुरुषो मे अलग अलग होती है।

सभी विटामिन की RDA (Recommended Dietary Allowance) इस प्रकार है।

विटामिन A  रेटिनोल  (पुरुष- 900 mcg) महिला (700 mcg)

विटामिन B1 थियामाइन  (पुरुष- 1.2 mg) महिला (1.1 mg)

विटामिन B2     राइबोफ्लेविन  (पुरुष- 1.3 mg) महिला (1.1 mg)

विटामिन B3   नियासीन  (पुरुष- 16 mg) महिला (14 mg)

विटामिन B5  पैंटोथैनिक एसिड  (पुरुष- 5 mg) महिला (5 mg)

विटामिन B6  पाइरीडॉक्सिन  (पुरुष- 1.3 mg) महिला (1.3 mg)

विटामिन B7  बायोटीन (पुरुष- 30 mcg) महिला (30 mcg)

विटामिन B9  फॉलिक एसिड  (पुरुष- 400 mcg) महिला (400 mcg)

विटामिन B12 कोबलामिन  (पुरुष- 2.4 mcg) महिला (2.4 mcg)

विटामिन C एस्कॉर्बिक एसिड  (पुरुष- 90 mg) महिला (75 mg)

विटामिन D  कैल्सिफैरोल  (पुरुष- 15 mcg) महिला (15 mcg)

विटामिन E टोकोफैरोल  (पुरुष- 15 mg) महिला (15 mg)

विटामिन K  (पुरुष- 120 mcg) महिला (90 mcg)

 

इन स्वास्थ्य संबंधी जानकारीयों को पढ़कर लाभ जरूर कमाये

क्या पालक खाने से किडनी मे पत्थर हो सकता है

इन फूड्स को कॉम्बिनेशन मे खाना पड़ सकता है आप पर भारी

जानिये खीरा और सेहत का रिश्ता आपके लिये है खास

केले के ये फायदे आपके लिये है लाभकारी

इसलिये नहीं बनवाना चाहिये शरीर पर टैटू

 

Leave a Reply