जानिए टीवी सीरियल्स को डेली ‘सोप’ क्यों कहते हैं?

डेलीसोप का हम अगर शाब्दिक अर्थ देखे तो रोज नहाने का साबुन कह सकते है लेकिन आजकल जब हम डेलीसोप सुनते है तो इसका मतलब हम टीवी में प्रसारित होने वाले धारावाहिकों से लगाते है. अब सवाल ये आता  है की सास-बहु के धारावाहिकों को daily soap क्यों कहा जाता है? और ये शब्द कहा से प्रचलित हुआ? तो दोस्तों आज इस पोस्ट में हम इसी सवाल का जवाब देने की कोशिश करेंगे. तो आइये जानते है.

 

why tv serials called  daily  soap in hindi  – टीवी सीरियल्स को डेली ‘सोप’ क्यों कहते हैं?

 

daily soap

 

डेलीसोप शब्द 1920 के आसपास अस्तित्व में आया लेकिन उसका प्रचलन  19वीं सदी के अंत में हुआ. जब उपनिवेशवाद का दौर था .तब रोजगार की तलाश में यूरोप के बहुत से लोग अमेरिका की तरफ बढ़ने लगे. यहाँ ये बात जानना  जरूरी है की यूरोप का तापमान अमेरिका के तापमान की अपेक्षा काफी कम है. तो यूरोप के लोग बहुत कम नहाते थे. उस टाइम गीज़र या पानी गर्म करने के साधन भी नही थे. तो जब वह लोग अमेरिका में आये तो अपनी आदत से मजबूर थे और बहुत कम नहाते थे. यानि वह लोग ना के बराबर नहाते थे.

अमेरिका में एक बड़ी सख्या में लोगो का आना और उपर से उनका ना नहाना वहां के लोगो को बिलकुल पसंद नही आया क्योकि न नहाने से अस्वच्छता उनके शरीर से साफ झलकती थी. इसलिए अमेरिका की तत्कालीन सरकार ने एक स्वच्छता अभियान चलाया और वहां पर नहाने के लिए सार्वजानिक  वाशरूम बनाये  गए.

ये अभियान असफल रहा. लोगो ने उन सार्वजनिक वाशरूम को नही अपनाया. तभी  की वहां सरकार ने उन सभी सार्वजनिक वाशरूम में रेडियो कार्यकर्म की सुविधा देने का निर्णय लिया. यानि अब लोग नहाते हुए रेडियो पर कार्यकर्म सुन सकते है. साथ ही अब उन सभी कार्यक्रमों को बहुत सारे साबुन के विज्ञापन मिलने लगे. जिसमे बड़ी बड़ी कंपनिया भी शामिल थी. अब रोजाना प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों और साबुन का अनोखा सम्बन्ध बन गया. तो वहा से ये “डेलीसोप” शब्द प्रचलन में आया और धीरे- धीरे पूरी दुनियां में फ़ैल गया.

अब जब टीवी अस्तित्व में आया तो शुरू में उसी तरह के कार्यकर्म दिखाए गए. हालाकिं  उनकी थीम, स्पोंसर और विज्ञापन बिल्कुल अलग थे लकिन उन्ही कार्यक्रमों की तरह यह भी डेली प्रसारित होते थे इसलिए रेडियो की जगह टीवी पर आने वाले यह daily soap  थे. अब रेडियो के डेलीसोप की जगह टीवी के daily soap  ने ले ली और तब से इन्हें डेलीसोप ही कहा जाने लगा.

 

 

दोस्तों उम्मीद करती है आपको यह रोचक जानकारी पसंद आई होगी. कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें. अगर आप भी हमारे आने वाले सभी रोचक आर्टिकल सीधे अपने मेल में पाना चाहते है तो हमें फ्री subscribe करें और हमारा फेसबुक पेज like करें.

 

यह भी जाने 

जानिए कीबोर्ड के लेटर ABCD फॉर्मेट में क्यों नहीं होते why computer keyboard is qwerty

जानिए शनि शिंगणापुर के बारे में जहाँ नहीं होते है किसी भी घर में दरवाजे

समुद्र का रंग नीला क्यों दिखाई देता है

जानिये क्यों होता है समुद्र का पानी नमकीन

Leave a Reply