जानिये क्यों होता है समुद्र का पानी नमकीन

यह तो सब जानते है की समुद्र का पानी नमकीन या कहे की खारा होता है. लेकिन समुद्र का पानी खारा क्यों होता है यह एक मुख्य प्रश्न है, जिसे जानने की इच्छा एक जिज्ञासु व्यक्ति में होती है. पृथ्वी का 70 प्रतिशत से भी अधिक भाग पानी से घिरा हुआ है, लेकिन इसका ज्यादातर भाग पीने लायक नही है क्योकि ये भाग समुद्र का है जो की नमकीन या कहे की खारा है, पीने लायक पानी तो नदियों, बर्फ और वर्षा से प्राप्त होता है. जहाँ एक प्रश्न समुद्र के नमकीन होने का है वही ये प्रश्न भी मन में उठता है की नदियों, झीलो का पानी खारा क्यों नहीं है. तो आज इस लेख मे हम इसका उत्तर जानेंगे.

जब वर्षा का पानी पृथ्वी पर गिरता है और भूमि पर बहता है, तब यह चट्टानों पर से नमक और दुसरे मिनरल्स बहा कर के नदियों में मिला देता है. और नदिया इस नमक को समुंदर मे जाकर मिला देती है. इससे नदियों में ताजा पीने लायक पानी बरकरार रहता है. सारा नमक समुद्र में जाकर ठहर जाता है, जब समुंदर के पानी का वाष्पीकरण होता है जिससे बादलो का निर्माण होता है तो सारा नमक पीछे ठहर जाता है और धीरे धीरे समय के साथ एकत्रित होता जाता है जिससे समुद्र का पानी नमकीन बनता है.

समुद्र के पानी के नमकीन होने का एक कारण यह भी है की समुद्र के नीचे काफी मात्रा में मिनरल्स और अवसाद (सेडीमेंटस) होते है जो की समुद्र के पानी की लवणता या खारापन बढ़ाते है.

समुद्र का पानी पीने योग्य क्यों नहीं होता

सदियों से धीरे धीरे नमक समुद्र मे एकत्रित होता रहता है, जिससे समुद्र के पानी की लवणता का स्तर स्थिर ना रहकर बढ़ता जाता है. समुद्र में मौजूद लवणता या कहे की नमक के उच्च स्तर के कारण यह मानव के उपभोग के लायक नहीं है. यह कहा जाता है की समुद्र के पानी की लवणता (salinity) ताजे पानी की लवणता से 220 गुणा ज्यादा होती है.

क्या आप जानते है

ग्रेट साल्ट लेक और मृत सागर (dead sea) नामक दोनो साल्ट लेक समुद्र के पानी की तुलना में 10 गुणा ज्यादा नमकीन है.

 

ये भी जाने

जानिये आसमान का रंग नीला क्यों है

कौन से है दुनिया के पांच बड़े अंडर वाटर होटल्स

 


अगर आपको ये लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये. हमारा फेसबुक पेज like कीजिये. अपने सुझाव हमें कमेंट्स के माध्यम से दीजिये. आपके कमेंट्स हमारे लिए उपयोगी सिद्ध होंगे. 


 

Leave a Reply