उबासी अंगड़ाई क्यों और कैसे आती है

उबासी यानी अपना मुहं खोलकर धीरे से सांस लेना और तेजी से छोड़ना. अक्सर जब हम थक जाते है या जब हमें नींद आ रही होती है तब हम उबासी लेते है. लेकिन उत्सुकता की बात ये है की ये उबासी क्यों आती है. आपने ये भी अनुभव किया होगा की जब भी आप किसी को उबासी लेते देखते है तो आपको भी उबासी लेने का मन करता है. तो इस पोस्ट में हम ये बतायेंगे की उबासी या अंगड़ाई या जंभाई क्या है और ये क्यों आती है.

जंभाई हम सब लेते है. मानव, नवजात शिशु और ऐसे सभी जानवर जिनकी हड्डियां होती है जंभाई लेते है, मछली और पक्षी भी उबासिया लेते है. 20 सप्ताह के मानव शिशु भी उबासी लेना शुरू कर देते है.

 

मानव को अक्सर ज्यादा काम करते समय, थकने पर, तनाव में, सोने के समय, उठने पर जंभाई आती है. जंभाई लेना अनैच्छिक क्रिया होती है इसे संक्रामक भी माना जाता है. मानवो और चिंपाजियो ने इसके संक्रामक होने का अनुभव किया है.

हमें उबासी कैसी आती है

उबासी

जंभाई के वक्त हम अपना मुहं खोलकर ज्यादा मात्रा में हवा अपने अन्दर लेते है और अपनी छाती फैलाते है. यह हवा हमारे फेफड़ो में जाकर भर जाती है और इसे बाहर निकालती है.

जंभाई आने के कारण causes of yawning

उबासी से संबंधित कुछ सिधान्त भी है जो ये बताते है की मानव और जानवर क्यों उबासिया लेते है.

 फिजियोलॉजिकल सिधांत

इनमे से फिजियोलॉजिकल सिधांत ये है की हमारे शरीर को ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत होती है और जंभाई के दौरान ये ज्यादा ऑक्सीजन खींचता है और कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर करता है.

 

मस्तिष्क का तापमान

हाल ही का सिधांत यह बताता है की हम तब जंभाई लेते है जब हमारे दिमाग का तापमान गर्म होता है. इस प्रक्रिया से दिमाग का तापमान ठंडा होता है.

 

इन रोचक बातो को भी पढ़े

शादी के वक्त लड़के लडकियों से बड़े क्यों होते है

कर्मनाशा नदी का पानी से क्यों हो जाते है अपवित्र

आकाश में इन्द्रधनुष कैसे बनता है

 


दोस्तों आशा करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा. आप अपने विचार या सुझाव हमें comments के द्वारा दे सकते है. हमारे आने वाले सभी articles को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री में subscribe करें और हमारा फेसबुक पेज like करें


 

Leave a Reply