जानिए कीबोर्ड के लेटर ABCD फॉर्मेट में क्यों नहीं होते why computer keyboard is qwerty

क्या आपके घर में कंप्यूटर या लैपटॉप है. अगर है तो आपने देखा होगा की कंप्यूटर के keyboard में A B C D लाइन से नही होती है.  सब कुछ उल्टा पुल्टा लिखा जाता है. जबकि कीबोर्ड पर लिखी गिनती ऐसी नही है. क्या आपने कभी सोचा है की keyboard में  ऐसे क्यों लिखा जाता है.  हालाकि ये सवाल बहुत सारे लोगो के दिमाग में आया होगा और उन्होंने अपनी अपनी तर्कशक्ति के आधार पर इसका जवाब ढूँढने की कोशिश की होगी पर इसका जवाब तर्क शक्ति से नही दिया जा सकता.आज इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की keyboard में letters alphabetical order में क्यों नहीं लिखे जाते. तो चलिए जानते है.

 

Why keyboard is not arranged in alphabetical order in hindi  – कीबोर्ड के लेटर ABCD फॉर्मेट में क्यों नहीं होते

 

why computer keyboard is qwerty

 

 

जब क्रिस्टोफर लैथम शोल्स ने पहला टाइपराइटर बनाया था तो सभी अक्षर सीधे ही लगे थे यानी A के बाद B,C,D  ही आता था लेकिन 1868  में बने उस अल्फाबेटिक टाइपराइटर में काफी कमियाँ थी जिसकी वजह से वो कारगर सिद्ध नही हुआ.

क्रिस्टोफर लैथम शोल्स ने जो अल्फाबेटिक टाइपराइटर बनाया था उसमे बहुत बार अक्षर आपस में उलझ जाते थे. अगर आपने कभी टाइपराइटर इस्तेमाल किया है तो आप समझ सकते है की दो अक्षर एक साथ दबने पर दोनों आपस में उलझ जाते है. अल्फाबेटिक टाइपराइटर में एक समस्या यह थी की अक्षर आपस में उलझ जाते थे. alphabetical  होने से टाइपिंग में गलतियाँ  भी ज्यादा होती थी और उस समय कीबोर्ड में बैकस्पेस का बटन भी नही था. अल्फाबेटिक टाइपराइटर पर स्पीड भी काफी कम आती थी और गलतियों की संभवनाए भी ज्यादा होती थी.

1873 में Christopher Latham Sholes  ने गलतियों से बचने और स्पीड को बढ़ाने के लिए सभी बटनों को व्यवस्थित किया. जैसे हम टाइपिंग में सबसे ज्यादा  E और I  का उपयोग करते है तो उसे बोर्ड की  पहली लाइन में और हमारी तर्जनी ऊँगली पर रखा गया यानी E और I  हाथो की बीच की ऊँगली पर रखा गया. और इस तरह ज्यादा इस्तेमाल होने वाले शब्दों को बीच में और कम इस्तेमाल होने वाले शब्दों को जैसे Z और X को कोने में रखा गया.

कीबोर्ड के इस नए ढांचे को क्वर्टी नाम दिया गया क्योकि इसके शुरुवाती अक्षर QWERTY है. हलाकि बाद में इसे ‘रेमिंग्टन एंड संस’ नाम दिया गया क्योकि इस कंपनी ने क्रिस्टोफर लैथम शोल्स के क्वर्टी मॉडल को ख़रीदा था लेकिन लोगो के जुबान पर आज भी QWERTY  ही प्रसिद्ध है.

 

कंप्यूटर पर क्वर्टी कीबोर्ड क्यों – why computer keyboard is qwerty in hindi

 

कंप्यूटर के आने पर टाइपराइटर की तमाम समस्याएँ  जैसे  बटन का उलझना,  टाइपिंग स्पीड और बैकस्पेस जैसी समस्याए सुलझ गई थी लेकिन फिर भी कंप्यूटर में qwerty  को अपनाया गया. इसका न्यूयॉर्क की कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में मानव व्यवहार और कार्यदक्षता पर अध्ययन कर रहे प्रोफेसर ऐलेन हेज ने हमारी आदत को बताया. उन्होंने कहा की क्वर्टी कीबोर्ड हमारी आदत में शुमार हो गया है जिसे हम बदलना नही चाहते. इसलिए कंप्यूटर आने के बावजूद हमने टाइपराइटर के क्वर्टी कीबोर्ड को अपना लिया.

 

दोस्तों अब तो आप समझ ही गए होंगे की आखिर Keyboard के Letters ABCD न हो कर QWERTY फॉर्मेट में ही क्यों होते हैं.

 

उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा. इसे जरुर शेयर करें. अगर आप भी हमारे आने वाले सभी रोचक आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाना चाहते है तो हमें फ्री subscribe करें और हमारा फेसबुक पेज like करें.

 

यह भी जाने 

क्यों तैरती है लाश पानी मे जबकि जिन्दा इंसान डूब जाता है

आसमान का रंग नीला क्यों दिखता है

जानिये क्यों होता है समुद्र का पानी नमकीन

क्यों पहनते हैं वकील काला कोट Why lawyers wear black coat in Hindi

क्यों होती है डॉक्टर्स की खराब लिखावट Why Do Doctors Have Bad Handwriting

Leave a Reply