मंदिरो मे घंटिया होने के पीछे क्या है वैज्ञानिक महत्व

जब भी आप मंदिर मे प्रवेश करते है तो प्रवेश द्वार पर ही आपको घंटी लटकी दिखाई देती है जिसे बजा के आप भगवान के दर्शन करने आगे बढ़ते है. भगवान की पूजा शुरू करने से पहले भी आप घंटी बजाते है. क्या आप जानते है मंदिरो की इन घंटियों के पीछे वैज्ञानिक कारण छिपा है. मंदिरो मे घंटी होने का वैज्ञानिक महत्व भी है. बेल को संस्कृत में घंटा / घंटी के रूप में जाना जाता है, इसे सभी देवताओं की पूजा के लिये उपयोग किया जाता है। बेल की घंटी को एक शुभ ध्वनि के रूप में माना जाता है यह ओम की ध्वनि पैदा करती है,

 

मंदिर की घंटियो का वैज्ञानिक महत्व क्या है scientific reason behind bells in temples

 

घंटी सिर्फ किसी एक साधारण धातु की बनी हुई नहीं होती बल्कि यह कैडमियम, सीसा, तांबा, जस्ता, निकल, क्रोमियम और मैंगनीज सहित विभिन्न धातुओं से बनी होती है। जिस अनुपात में उनमें से हर एक घातु मिश्रित होती है, उसमे घंटी के पीछे का असली विज्ञान छिपा है। इन घंटियों में से प्रत्येक को इस तरह की एक विशिष्ट ध्वनि का निर्माण करने के लिए बनाया गया है जिससे की यह आपके बाएं और दाएं दिमाग की एकता को बनाये रख सकती है। जिस समय आप घंटी बजाते हैं, घंटी तेज लेकिन स्थायी ध्वनि उत्पन्न करती है यह घ्वनि इको मोड में कम से कम सात सेकंड तक रहती है जो आपके शरीर में आपके सात चक्रों को छूने के लिए काफी अच्छा है। जब घंटी से क्षण भर के लिये आवाज़ उत्पन्न होती है जब आपका मस्तिष्क सभी विचारों से खाली हो जाता है.

 

इसके बाद आप स्थिर रूप से एक ऐसी अवस्था मे चले जाते है जहाँ आप बहुत ग्रहणशील हो जाते है. इस अवस्था मे आप जागरुक हो जाते है.
आप अपने मन मे इतने व्यस्त हैं कि आप को जगाने का एक ही रास्ता है वो है एक शॉक या सदमा. घंटी आपके दिमाग में एक एंटी-डॉट के रूप में काम करती है। इससे पहले कि आप मंदिर में प्रवेश करें – आपको जगाने के लिए और आपको जागरूकता का स्वाद चखाने के लिए तैयार करना, मंदिर की घंटी के पीछे का वास्तविक कारण है।

 

मंदिर मे घंटी बजाने के क्या लाभ है benefit of ringing bell in temple

 

  • घंटी की आवाज़ नकारात्मक ऊर्जा को खाली करती है, जिससे पवित्र और पूजा के स्थान पर नकारात्मक ऊर्जा या बुरी आत्मा को बाहर निकलने में मदद मिलती है.

 

  • ऐसा माना जाता है कि घंटीया (bells) बुरी आत्माओं को डराने, या डालने या इस्तेमाल करने के लिए भी प्रयोग की जाती है. ऐसी घंटीयो को घर पर भी लटकाया जा सकता है और घंटी बजने से नकारात्मकता ऊर्जा जा सकती है और यह घर मे सकारात्मक ऊर्जा लाती है.

 

  • घंटिया सकारात्मक उर्जा को चलाकर एक सामंजस्यपूर्ण वातावरण का निर्माण करने मे भी सहायक होती है.

 

इन लेखो को पढ़े

क्या आप जानते है कर्मनाशा नदी का पानी छुने से ही नष्ट हो जाते है सारे पूण्य – कर्मनाशा नदी क्यों है अपवित्र

मरने के बाद मृत शरीर कितने समय तक रहता है

क्या आप जानते है थाईलैंड के बारे में हैरान कर देने वाले रोचक फैक्ट्स

 

Leave a Reply