जानिए शनि शिंगणापुर के बारे में जहाँ नहीं होते है किसी भी घर में दरवाजे

क्या आप एक ऐसी जगह की कल्पना कर सकते है जहाँ किसी भी घर के बाहर दरवाजा न हो, जहा दुकानों को कभी तालो से बंद न किया जाता हो और सबसे बड़ी बात वहां के लोगों को ऐसा करना कभी भी असुरक्षित नहीं लगता हो। शायद ऐसी जगह के बारे में आपने  किस्से और कहानियों में सुना होगा. आपको यह बात जानकार हैरानी होगी की भारत के महाराष्ट्र राज्य में शनि शिंगणापुर/ shani shingnapur नाम की एक ऐसी जगह है जहाँ के सभी लोग अपने घरो और दुकानों को कभी तालों से बंद नहीं करते. और सबसे आश्चर्य की बात यह है की इस जगह में आज तक एक भी चोरी नहीं हुई है. इसके पीछे वहां के लोगी की एक धार्मिक आस्था जुडी है. शनि शिंगणापुर के लोगो का मानना है की इस गांव की रक्षा स्वयं भगवान् शनि करते है.

 

शनि शिंगणापुर की कहानी – story of shani shingnapur in hindi

shani shingnapur a village without doors

 

पौराणिक कथा के अनुसार लगभग 300 साल पहले शिंगणापुर में बहुत तेज बारिश हुई जिससे वहां बाढ़ आ गई. बारिश और बाढ़ के बाद, लोगो को पनासनाला नदी के किनारों पर एक शिला दिखाई दी.  स्थानीय लोगों ने ऐसा अजीबोगरीब पत्थर पहले कभी नहीं देखा था. जब एक आदमी ने उस शिला पर जैसे ही कोई नुकीली चीज मारी उस पत्थर में से खून बहने लगा। वह यह सब देखकर डर गया और गावं वापिस आ गया.

 

उस रात, शनि देव एक गावं वाले के सपने में आये  और कहा की वह खंड उनकी मूर्ति है.  शनि देव ने आदेश दिया कि उस खंड को गांव में रखा जाना चाहिए, जहां वह विराजमान रहेंगे। उस आदमी ने सभी गाँव वालो को यह बात बताई. सभी लोग पनासनाला नदी के पास गए और उस खंड को उठाने के काफी प्रयास किये लेकिन कोई उसे हिला तक नहीं पाया. शनि देव उसी व्यक्ति के स्वप्न में दुबारा आये और मूर्ति उठाने का एक मार्ग बतायाँ. उन्होंने कहा की कोई सगे मामा-भांजा  ही मुझे उस जगह से उठा सकते है. अगले दिन गावं वालो ने वैसा ही किया और उनकी मूर्ति को गाँव में स्थापित किया. तब शनि देव ने गाँव वालो को आशीर्वाद दिया और गांव को खतरे से बचाने का वादा किया

 

मूर्ति को स्थापित करने के बाद, वहां के लोगो ने सभी दरवाजे को हटवाने का निर्णय लिया । क्योकि अब भगवान उनकी निगरानी करने के लिए स्वयं मौजू  थे । शनि शिंगणापुर के निवासियों का मानना ​​है कि जो व्यक्ति चोरी करेगा वह अँधा हो जायगा.

 

यह परंपरा पीढ़ियों तक जारी रही । स्थानीय लोगों के पास अब भी कोई स्थायी दरवाज़े नहीं है. वे अपने पैसो और गहनो को भी लॉक करके नहीं रखते. उनका दृढ़ विश्वास है कि उनके देवता उन्हें हर दुर्घटना से बचाएंगे। यहां तक ​​कि गांव के सार्वजनिक शौचालयों के प्रवेश द्वार पर भी दरवाजो की जगह पर पर्दे  है।

अपने  इसी अनोखेपन के कारण, आज शनि शिंगणापुर पूरे भारत के लोगो का  आकर्षण का केंद बना हुआ है । यहाँ रोजाना कम-से-कम 40,000 लोग मंदिर के दर्शन करने और घुमने आते है.

 

दोस्तों आपको यह लेख कैसा लगा हमें जरुर बताये. आप अपने विचार कमेंट्स के माध्यम से भेज सकते है. अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो कृपया इसे शेयर करें. साथ ही सभी आर्टिकल की जानकारी सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री सब्सक्राइब जरुर करें.

 

जानिए केरल में हुई लाल रंग की बारिश का रहस्य red rain in kerala

जानिए क्या है जोधपुर सोनिक बूम का रहस्य Jodhpur sonic boom mystery in hindi

जानिए कर्नाटक के sanskrit village के बारे में mattur village in hindi

आने वाले 100 सालो में ख़त्म हो जाएंगे दुनियां के ये खुबसूरत शहर

2 Comments

  1. raj kumar dhuriya May 26, 2018
  2. Jitendra kumar August 4, 2018

Leave a Reply