जानिए क्यों सफलता की चाबी है विश्वास power of belief in hindi

दोस्तों आज के ज़माने में सफल होना कौन नहीं चाहता?? हर कोई चाहता है की उसके पास दौलत हो, रुतबा हो लेकिन क्या हर इंसान अपने जीवन में यह सब कुछ पाता है?? जवाब न में ही होगा क्योकि हम में से बहुत से लोग अपनी मजिल तक पहुचने से पहले ही हार मान लेते है. इसके कारण अलग अलग हो सकते है लेकिन नतीजे एक सामान ही होते है और वे है दुःख और किस्मत को कोसना. तो दोस्तों आज हम एक कहानी के जरिये ये बताने की कोशिश करंगे की आखिर यह क्यों कहा जाता है खुद पर विश्वास/ belief किये बिना जीवन में कुछ पाना असंभव है.

 

the story of elephant  belief – i can’t do it

 

एक बार सड़क पर चलता हुआ आदमी एक हाथी को देकर आश्र्य्चाकित रह जाता है. क्यों? क्योकि उस विशालकाए हाथी के पैर एक छोटी सी चेन से बंधे हुए थे. वह आदमी यह सोचकर हैरान होता है की इतना बड़ा हाथी इस कमजोर चेन को तोड़कर मुक्त क्यों नहीं हो जाता. तभी उसकी नजर हाथी के निरीक्षक पर पड़ी और आदमी ने अपनी उत्सुकता को पूरा करने के लिए यही सवाल हाथी के निरीक्षक से पूछा. निरीक्षक मुस्कुराया और बोला – जब यह हाथी काफी छोटा था तब से मैंने उसे इस जंजीर में बांधकर रखा है और तब यह जंजीर इसे रोके रोकने के लिए पर्याप्त थी. जैसे जैसे ये हाथी बड़ा होता गया इसे विश्वास/ belief होता गया की वो इस रस्सी को नहीं तोड़ सकता. इसलिए छोटी और कमजोर चेन होने के बावजूद इसे ऐसा लगता है यह काफी मजबूत है इसलिए ये इसे कभी तोड़ने की कोशिश नहीं करता.

 

वह आदमी निरीक्षक की इस बात को सुनकर सोच विचार करने लगा की ताकत होने के बावजूद हाथी इसलिए बंधन मुक्त नहीं हो सकता क्योकि उसे ऐसा लगता है की वो इस काबिल नहीं है!!!! क्या हम इंसान भी अपनी नकरात्मक सोच के गुलाम है??

 

जी हाँ दोस्तों हम में से ज्यादातर लोग आज भी इसलिए निराश, हताश और पिछड़े हुए है क्योकि हम भी अपने विश्वास/ belief पर डटे हुए हैं कि हम कुछ नहीं कर सकते. क्यों??? इसलिए क्योंकि हम इससे पहले एक बार उस काम को करने में असफल रहे थे? हम यह भूल जाते है की असफलता भी सीखने का एक हिस्सा है; जरुरी नहीं है की पिछली बार जो हम नहीं कर सके थे वो इस बार भी न कर पायें. इसलिए हमें जीवन में हमें संघर्ष को कभी नहीं छोड़ना चाहिए.  बस जरुरत है उन वजहों का पता लगाने की जिसके कारण पहले सफलता हमें नहीं मिल पाई.

 

 

इंसान अपने विश्वास से बना होता है, जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है – भगवत गीता

 

Man is made by his belief, as he believes, so he is –  Bhagavad Gita

 

तो दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताएं. साथ ही इस आर्टिकल को जरुर शेयर करें. इस वेबसाइट को फ्री में सब्सक्राइब करें और पाए आने वाले सभी आर्टिकल की जानकारी सीधे अपने मेल में. Have a nice day

 

मन से जुड़े होते है मन के तार.. राजा और लकड़हारे की कहानी

बाप रे!!! छोटा सा नियम तोडा और इतनी बड़ी सजा.. Importance of self discipline

क्या सच में अहंकार इन्सान को ले डूबता है… TRUTH BEHIND EGO

One Response

  1. Mostofa September 22, 2017

Leave a Reply