नवजोत सिंह सिधु की प्रेरणादायक शायरी का संग्रह

जब नवजोत सिंह सिधु का नाम आता है तो हमे उनके द्वारा लगाये क्रिकेट फील्ड पर छक्के और क्रिकेट के बाहर उनकी शायरिया याद आती है. नवजोत एक क्रिकेट खिलाड़ी रह चुके है बाद में उन्होंने राजनीति का रुख किया, वे एक मोटिवेशनल स्पीकर भी है.सिधु ने जहाँ कही भी कदम रखा वहां सफलता की मंजिलो को छुआ चाहे वो क्रिकेट हो, राजनीति या एक्टिंग. सिधु बताते है की उन्होंने अपनी कमजोरी को ही अपनी मजबूती बना लिया, एक कम बोलने वाला लड़का, जो स्टेज पर आने से डरता भी डरता था आगे चलकर एक प्रेरणा स्त्रोत बना, उन्होंने अपनी शायरियो और मोटिवेशनल स्पीचो से लोगो का दिल जीत लिया. इस पोस्ट में हम कुछ ऐसी ही मोटिवेशनल शायरियो का कलेक्शन आपके लिये लेकर आये है जो उन्होंने लोगो को सुनाकर उन्हें प्रोत्साहित किया.

सिधु की मोटिवेशनल शायरिया sidhu motivational shayriya

1)

“मुश्किल राहो में आसान सफर लगता है

शायद ये मेरी माँ की दुआओ का असर लगता है”

 

2) सिकंदर के लिये बोली गयी शायरी

 

“सिकंदर हालात के आगे नहीं झुकता

तारा टूट भी जाये जमीन पर आकर नहीं गिरता

गिरते है हजारो दरिया समंदर में

पर कोई समंदर किसी दरिया में नहीं गिरता”

 

3)

“जो वक़्त अपना बर्बाद नहीं करता

किसी की दुनिया आबाद नहीं करता

जिस किसी ने जगह मिलेगी जीत से

हारने वालो को जमाना याद नहीं करता ”

 

4)शाहरुख खान के लिये

 

“सूरज हूँ जिंदगी की चमक छोड़ जाऊँगा, फिर लौट आने की खनक छोड़ जाऊँगा

मै सबकी आँखों से आंसू समेट कर, सबके दिलो में अपनी झलक छोड़ जाऊँगा”

 

5) जितेन्द्र के लिये

“आयु थोड़ी बड़ी है, लेकिन उत्साह आज भी वही है

नदी चाहे गहरी है लेकिन प्रवाह आज भी वही है

वही दमखम वही चम चम, मन ठाठ वही है

तलवार पुरानी है पर धार और काट आज भी वही है”

 

6)

“मंजिले उनको मिलती है जिनके सपनों में जान होती है

पंखो से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है”

 

7)मोदी के लिये

 

“जहाँ हर सर झुक जाये वही मंदिर है

जहाँ हर नदी समा जाये वही समंदर है

जीवन की इस कर्म भूमि में युद्ध बहुत है

जो हर जंग जीत जाये वही मोदी जैसा सिकंदर है”

 

8)

“कांटो में रहकर भी फूलो की तरह महकना सीखो

कीचड़ में रहकर भी दोस्तों कमल की तरह खिलना सीखो

जो परिस्थितियों से घबरा जाये वो लौह पुरुष हो नहीं सकता

राख में रहकर भी अंगारों की तरह दहकना सीखो”

 

9)  रणबीर कपूर के लिये

“दिल से दुआ है, जो दिल से दे दुआ तो बिखारी आमिर है

मोती ना दे सके तो समंदर फकीर है

देता रहेगा सारे अंधेरो को रोशनी

जब तक तेरे वजूद में रोशन जमीर है”

 

10)

“पानी की बूंद कही टिकती नहीं, ईमानदारी मुझे कही दिखती नहीं

खरीददारो की मंडी में खड़ा है सिधु, जितनी मर्जी बोली लगा कुछ चीजे ऐसी है जो बिकती नहीं”

 

11)

“हादसों के शहर में हादसों से डरता है, मिटटी का खिलौना है फना होने से डरता है

मेरे दिल के कौने में एक मासूम सा बच्चा, बड़ो की देख के ये दुनिया ये बड़ा होने से डरता है”

 

12) csk के लिये

“गुलाबो की खुशबू दीवारे रोक नहीं सकती

हवाओ का बहाव मीनारे रोक नहीं सकती

बुलंद हौसले ही csk की हकीकत है

फौलादो की रफ़्तार तकदीरे रोक नहीं सकती”

 

 

सिधु की इन शानदार शायरियो का कलेक्शन विभिन्न टीवी कार्यकर्मो पर बोले गयी उनकी शायरियो से किया गया है. उम्मीद है ये आपको पसंद आयेगी. आप भी हमारे साथ सिधु की मोटिवेशनल शायरियो को कमेंट के माध्यम से शेयर कर सकते हो. हमारा फेसबुक पेज लाइक करे और हमें सब्सक्राइब करना ना भूले.

 

इन विचारो को भी पढ़े

मोटिवेशनल सकारात्मक सुविचार

सफलता के लिये जरूरी विचार

शिव खेड़ा के सकरात्मक मोटिवेशनल विचार

Leave a Reply