मम्मी क्या और कौन है, ये क्यों बनाई जाती थी

दोस्तो हमने अपने पिछले पोस्ट में बताया था की कैसे मरने के बाद एक मृत व्यक्ति के शरीर को अगर जलाया या दफनाया ना जाये तो वह decomposition की प्रकिया से गुजरता है. इस पोस्ट मे हम आपको बतायेंगे की मरने के बाद भी शरीर को कैसे सुरक्षित रखा जा सकता है. ऐसे शरीर को mummy कहा जाता है. प्राचीन मिस्त्र वासियों ने भी इस तरीके का प्रयोग किया और शरीरो को सुरक्षित किया.

 

What is mummy in hindi?

मम्मी एक मृत व्यक्ति का शरीर है जो की कपड़े में लपेटा हुआ और कब्र में रखा हुआ होता है। इसे कहने का एक ओर तरीका यह है की मम्मी एक मृत व्यक्ति या जानवर का शरीर है जिसे सुरक्षित किया गया है। प्राचीन मिस्र में सुरक्षित शरीरो के रूप में पहली बार इस परिभाषा का प्रयोग किया गया था.यह प्रक्रिया थी कृत्रिम संरक्षण की एक विधि, जिसे ममीकरण (mummification) कहा जाता है, यह विधि प्राचीन मिस्त्रवासियों द्वारा विकसित कि गयी थी। ममीकरण (mummification) एक जटिल और लंबी प्रक्रिया थी जो 70 दिनों तक चलती थी।

 

अत्यधिक शुष्क या ठंड की स्थिति में, अपघटन (decomposition) की सामान्य प्रक्रिया रूक सकती है, या तो नमी या तापमान की कमी से, जो कि जीवाणु और एंजाइमेटिक क्रिया को नियंत्रित करता है – प्रभावी ढंग से ऐसे शरीरो को बंद कर दिया जाता है जब ऐसा हुआ तो शरीर को एक मम्मी के रूप में संरक्षित किया गया। यदि जमी हुई ममियों को पिघाल दिया जाये तो अपघटन प्रक्रिया फिर से शुरू हो जाएगी, और ऐसा ही रेत में संरक्षित लोगों के साथ भी होगा, जब उन पर नमी आ जाये,  जैसे कि मिस्र के मम्मी,

 

बेहद शुष्क स्थितियां decomposition की प्रक्रिया को बदल सकती हैं, इसके बजाय वे ऊतकों को शुष्क कर सकती हैं और त्वचा को सूखा और चमड़ा छोड़ सकती है। प्राचीन मिस्त्रवासियों ने ऐसी प्रकिया को प्रोत्साहित किया जिसमे गीले आंतरिक अंगो को हटाया जा सके और लाश को नमक लगाया जाये, यह प्रकिया लाश पर से अतिरिक्त नमी हटाने के लिये थी. सही गर्म और शुष्क परिस्थितियां आंशिक रूप से एक लाश को संरक्षित कर सकती हैं, यह पूरे विघटन को रोक सकती है या उसे सुरक्षित कर सकती है।

 

mummy कौन होती थी और मिस्त्रवासियो द्वारा mummy क्यों बनाई जाती थी. Who were the mummies and why egyptians make mummies in hindi.

 

कुछ ऐसे मिस्त्रवासी होते थे जो मृत्यु के बाद अपने शरीर को सुरक्षित रखने के लिये इस महंगी प्रक्रिया का भुगतान कर सकते थे.उनका ऐसा मानना था की मृत्यु के बाद भी जीवन होता है. उनका ऐसा मानना था की उन्हें अपने शरीर को बचा कर रखना चाहिए ताकि मृत्यु के बाद वे इसका प्रयोग कर सके.

 

इन लेखो को भी पढ़े

जानिये मरने के बाद मृत शरीर कितने समय तक रह सकता है

Leave a Reply