life changing motivational speech for success by Steve jobs

दोस्तों आज हम आपके साथ Steve jobs की motivational speech शेयर करने जा रहे है. यह स्पीच Steve jobs ने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में 12 जून 2005 को दी थी. इसमें उन्होंने  स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के छात्रों के साथ अपनी जिन्दगी के संघर्षो और सफलताओं का जिक्र किया है. इस speech के जरिये Steve jobs ने लाखो युवाओ को प्रेरित किया है.  उम्मीद करते है आपको यह पसंद आएगी.

 

steve jobs speech at stanford university in hindi – स्टीव जॉब्स की प्रेरणादायक स्पीच

 

आज मैं आपके साथ दुनिया के बेहतरीन विश्वविद्यालयों में से एक के दीक्षांत समारोह में शामिल होने पर सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मुझे कॉलेज से कभी स्नातक की उपाधि नहीं मिली। । आज मैं आपको अपने जीवन से तीन कहानियाँ बताना चाहता हूं। कोई बड़ी बात नहीं। सिर्फ तीन कहानियां

 

पहली कहानी बिन्दुओ को मिलाने के बारे में है….Steve jobs

मैंने लगभग 6 महीने बाद अपना कॉलज छोड़ दिया था, लेकिन मै अगले 18 महीने वहां आता जाता रहा, तो मैंने कॉलेज क्यों छोड़ा??

मेरे जन्म से पहले इसकी शुरूआत हो गई थी। मेरी असली मां एक युवा, अविवाहित कॉलेज स्नातक छात्र थी, और उन्होंने मुझे  किसी को गौद देने का फैसला लिया । मेरी माँ की कोशिश थी की मुझे कॉलेज स्नातकों द्वारा ही गोद लिया जाये. सब कुछ तय हो गया और मुझे एक वकील और उसकी बीवी ने गोद ले लिया, लेकिन आखिरी समय पर उन्होंने यह कहकर मना कर दिया की उन्हें एक लड़की चाहिए थी . इसलिए मेरे माता-पिता, जो प्रतीक्षा सूची में थे, आधी रात में उन्हें कॉल किया गया , और उनसे पूछा गया: “हमारे पास एक बच्चा है; क्या आप उसे गोद लेना चाहते हैं? “उन्होंने कहा:” बिल्कुल। “मेरी जैविक मां ने बाद में पाया कि मुझे गोद ली हुई  माँ ने कभी कॉलेज से स्नातक नहीं किया था और मेरे पिता ने कभी हाई स्कूल से स्नातक नहीं किया था इसलिए  उन्होंने  गोद लेने के अंतिम कागजात पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया। पर कुछ महीनों बाद जब मुझे गोद लेने वाले   माता-पिता ने वादा किया था कि वे मुझे कॉलेज पढने भेजेंगे तो मेरी माँ मान गई और मुझे गोद दे दिया.

 

Steve Jobs Stanford Motivational Speech in Hindi

 

17 साल बाद मै कॉलज गया लेकिन गलती से मैंने स्टैनफोर्ड जितना महँगा कॉलेज चुन लिया, और इससे मेरे  माता पिता की सारी बचत मेरी  कॉलेज और ट्यूशन की फीस में जाने लगी, 6 महीने बाद मुझे पढ़ने का कुछ ख़ास महत्त्व नहीं लगा. मुझे नहीं पता था कि मैं अपने जीवन के साथ क्या करना चाहता था और पता नहीं कैसे कॉलेज मुझे इसे समझने में मदद करने वाला था। लेकिन तब तक मै अपने माता – पिता की बची हुई कमाई खर्च कर चूका था. इसलिए मैंने कॉलेज छोड़ने का फैसला लिया और विश्वास किया कि यह सब ठीक ही होगा. उस समय यह बहुत डरावना था, लेकिन जब जब मै पीछे की ओर देखता हूँ तो मुझे लगता है की यह मेरे सबसे अच्छे निर्णयों में से एक था। जिस समय मैंने कॉलेज छोड़ा , मैंने आवश्यक क्लासों को लेना बंद कर दिया जिसमे  मुझे दिलचस्पी नहीं थी, और अब यह  दिलचस्प लग रहा था

 

यह सब उतना मजेदार  नहीं था मेरे पास रहने के लिए  कमरा नहीं था, इसलिए मैं अपने दोस्त के कमरे  के फर्श पर सोता था था. मैं कोल्ड्रिंक की बोतल बेचकर खाना खरीदता था और हर रविवार की रात को 7 मील की दूरी पर हरे  कृष्णा  मंदिर में सिर्फ अच्छा खाना खाने जाता था । मुझे वह पसंद  था । और जो कुछ मैंने अपनी जिज्ञासा और अंतर्ज्ञान के अनुसरण करते हुए  ठोकर खाई थी, बाद में यह अनमोल साबित हुई मैं आपको एक उदाहरण देता हूं

 

रीड कॉलेज उस समय देश में शायद सबसे अच्छी calligraphy  शिक्षा दे रहा था । कॉलेज कैंपस में  हर पोस्टर, सभी  दराजो पर हर लेबल, खूबसूरती से calligraphed  थे। क्योंकि मैं कॉलेज छोड़ चुका था और सामान्य कक्षाएं नहीं ले रहा था , मैंने calligraphy  क्लासेज लेने का निर्णय लिया.  मैंने serif  और sans serif typefaces  के बारे में सीखा. यह सब बहुत ही खूबसूरत और ऐतिहासिक मुझे यह आकर्षक लग रहा था।

 

इससे पहले मुझे मेरे जीवन में किसी भी व्यावहारिक अनुप्रयोग की आशा नहीं थी  लेकिन 10 साल बाद, जब हम पहला  Macintosh computer डिजाइन कर रहे थे, तो यह सब मेरे काम आया और हमने मैक में यह सब बनाया । यह सुंदर typography के साथ पहला कंप्यूटर था। अगर मैंने कॉलेज न छोड़ा होता तो मै कभी  calligraphy न सीख पाता  और मैक में  कभी भी multiple typefaces या  proportionally spaced fonts न होते  । यानी आज जो  कंप्यूटरों में टाइपोग्राफी है वो न होती.  बेशक जब मैं कॉलेज में था, तब इन बिंदुओं को जोड़ना असंभव था। लेकिन आज मै जब 10 पहले देखता हूँ तो मुझे ये क्लियर दिखाई देता है.

 

आप अगली कड़ी या बिन्दुओ को नही जोड़ सकते लेकिन पिछली कड़ीयों को ज़रूर जोड़ सकते हो. आपको इस बात पर भरोसा करना होगा कि आपकी जिन्दगी की कड़ियाँ या बिन्दुएँ  किसी तरह आपके भविष्य में जुड़ जाएँगी. आपको किसी न किसी पर भरोसा करना ही होगा. फिर चाहे वह  आपका भाग्य हो , जीवन हो , कर्म हो या कुछ भी हो. इस दृष्टिकोण ने मुझे कभी निराश नहीं किया है, और इसी ने मेरे जीवन में यह अंतर पैदा किया है.

 

मेरी दूसरी कहानी प्यार और नुक्सान की है…Steve jobs

 

मैं भाग्यशाली था जिसे मै करना चाहता था वह करने का मौका मुझे बहुत जल्दी मिला, मैंने 20 साल की उम्र में अपने माता-पिता के गेराज में ऐप्पल की शुरुआत की. हमने कड़ी मेहनत की, और 10 साल में एप्पल सिर्फ एक गेराज से  2 से 2 अरब डॉलर की हो गई जिसमे  4,000 से अधिक कर्मचारी  काम करने लगे. आखिरकार हमने एक शानदार रचना की “मैकिनटोश”  एक साल पहले मै 30 साल का हो गया और मुझे कंपनी से निकाल दिया गया. आपके द्वारा शुरू की गई कंपनी से आप कैसे निकाले जा सकते हैं? जैसे जैसे  ऐप्पल बढ़ता गया मैंने  किसी को काम पर रखना चाहा  जिसे हमने सोचा कि वह कंपनी को मेरे साथ चलाने के लिए बहुत प्रतिभाशाली था, और पहले साल तो सब कुछ ठीक चला । लेकिन फिर भविष्य के हमारे दर्शन भिन्न हो गए और आखिरकार मुझे बाहर कर दिया गया . हमारे Board of Directors ने उसका पक्ष लिया. और मुझे निकाल दिया गया. यह मेरे लिए दुखद  था

 

मैं वास्तव में नही जानता था कि शुरुआत में मुझे क्या करना चाहिए.  मुझे लगा की मैंने पिछली पीढ़ी के उद्यमियों को पीछे कर दिया है…. मैं बाद में डेविड पैकार्ड और बॉब नॉइस से मिला और माफ़ी मांगी, मैं सबके सामने हार गया था और मैं वहां से भाग जाने की सोच रहा था लेकिन धीरे धीरे मुझे खुद पर भरोसा होना शुरू हुआ – मुझे अब भी वह चीज पसंद थी जिसे मै करना चाहता था । मुझे अस्वीकार कर दिया गया था, लेकिन मैंने फिर से आरंभ करने का फैसला किया।

एप्पल से निकाला जाना मेरे जीवन में अब तक का सबसे अच्छा हादसा साबित हुआ. मेरे लिए, कामयाब होने का बोझ अब शुरूआती ख़ुशी और हल्केपन में तब्दील हो गया था. इसने  मुझे अपने जीवन की सबसे रचनात्मक अवधि में से एक में प्रवेश करने के लिए मुक्त कर दिया।

अगले पांच सालों के दौरान मैंने NeXT और Pixar  नाम की कंपनी शुरू की और उस दौरान मुझे एक अद्भुत महिला से प्यार हो गया जो बाद में मेरी पत्नी बनी.  पिक्सर ने दुनिया की पहली कंप्यूटर एनिमेटेड फीचर फिल्म, टॉय स्टोरी बनाई  और अब यह  दुनिया का  सबसे सफल एनीमेशन स्टूडियो हैं। मेरे जीवन में एक ओर मोड़ तब आया  एप्पल ने नेक्स्ट को खरीद लिया और मैं ऐप्पल में लौट आया, और जो तकनीक हमने नेक्स्ट कंपनी में बनाई थी अब वह एप्पल में इस्तेमाल होती है और अब लौरेने यानी मेरी पत्नी और मेरा एक खुशहाल परिवार है

 

मुझे पूरा यकीन है कि अगर मुझे ऐप्पल से नहीं निकाल दिया गया होता तो यह कुछ भी नहीं होता। यह एक कड़वी दवाई की तरह है जो मरीज़ को लेनी ही पड़ती है । कभी कभी ज़िन्दगी ईट से सर पर वार करती है लेकिन उम्मीद कभी नही छोड़नी चाहिए . मुझे विश्वास है कि केवल एक चीज है जिसकी बदोलत आज मै यहाँ तक पंहुचा हूँ और वह है जो भी मैंने किया उससे प्यार किया। आपको भी यह   ढूंढना पड़ेगा  की आप  किस चीज़ से प्यार करते हो । । आपका काम आपके जीवन का एक बड़ा हिस्सा भरता  है, और संतुष्ट रहने  का एकमात्र तरीका है जो आपको पसंद है वही करें । और पसंदीता काम वही है जिसे आप प्यार करते हो । अगर आपको यह अभी तक नहीं मिला है, तो इसे खोजे. जैसे दिल से जुड़े  सभी मामलों में होता है,  आपको पता चल जाएगा जब आपको यह मिलेगा । और, किसी भी अच्छे  रिश्ते की तरह, यह सिर्फ बेहतर और बेहतर हो जाता है तो जब तक आप इसे खोज नहीं लेते, तलाश करते रहिए।.

 

मेरी तीसरी कहानी मृत्यु के बारे में है….Steve jobs

 

जब मैं 17 साल की था , मैंने एक लाइन  पढ़ी  थी  जो की इस तरह थी : “यदि आप हर दिन ऐसी जीते  हैं जैसे यह तुम्हारा आखिरी दिन हो  तो आप किसी न किसी दिन सही साबित होंगे ” इसका मेरे ऊपर गहरा असर हुआ, और तब से, पिछले 33 सालों में, मैंने हर सुबह शीशे  में देखा और अपने आप से पूछा: ” अगर आज मेरी जिंदगी का आखिरी दिन होगा,  तो क्या मैं आज वो करता जो मैं करने वाला हूँ? और जब भी कई दिनों तक जवाब “नहीं” में होता तो मुझे लगता है कुछ बदलने की ज़रूरत है

 

यह याद रखना कि मैं जल्द ही मर जाऊंगा जिन्दगी  में बड़ी चुनौतियों का सामना करने में मेरी मदद करने का सबसे महत्वपूर्ण उपकरण है। क्योंकि लगभग सभी चीजें – सभी बाहरी अपेक्षाएं, सभी अभिमान, शर्मिंदगी या विफलता के सभी डर – मौत के आगे छोटी हैं, याद रखना कि एक दिन हम सबको मरना है – यह किसी भी डर को दूर भगाने का सबसे अच्छा तरीका है.

लगभग एक साल पहले मुझे पता चला की मुझे  कैंसर है । मेरा  सुबह 7:30 बजे स्कैन किया गया और उससे यह साफ़ हो गया कि  मेरे pancreas में  एक ट्यूमर है. मुझे  यह भी पता नहीं था कि pancreas होता क्या है । डॉक्टरों ने मुझे बताया कि यह लगभग निश्चित रूप से कैंसर का एक प्रकार है जिसका  कोई इलाज़ नहीं  है, और मै लगभग 3 से 6 महीने तक जिन्दा रह सकता हूँ.  , मेरे डॉक्टर ने सलाह दी की मैं घर जाऊं और सभी चीजो को मैनेज कर लूँ जिसका मतलब है की अब मरने की तैयारी कर ले. इसका अर्थ है कि आप अपने बच्चों से वह सब बाते अगले कुछ महीनो में कर लें जो आपको  अगले 10 सालों में उनके साथ करनी थी. । इसका मतलब है आप सबको अल विदा कह दे.

 

मेरा सारा दिन रोग के  निदान में बीता. बाद में उस शाम को मेरे पास बायोप्सी थी, जहां उन्होंने मेरे गले के नीचे एक एंडोस्कोप लगाया, मेरे पेट के माध्यम से और मेरी आंतों में, मेरे अग्न्याशय में सुई डाली और ट्यूमर से कुछ कोशिकाओं को निकला. मै  बेहोश था  लेकिन मेरी पत्नी, जो वहां थी, ने मुझे बताया कि जब डॉक्टर्स ने  माइक्रोस्कोप के नीचे कोशिकाओं को देखा तो उनकी  आँख से आसू आ गए  क्योंकि यह अग्नाशयी कैंसर का एक बहुत ही दुर्लभ रूप था जो सर्जरी से ठीक हो सकता था  . मेरी सर्जरी की गयी  और अब मैं ठीक हूँ

तब मैंने बहुत करीब से मौत का सामना किया । इसके माध्यम से मैं आपको यह कह सकता हूं कि जब मौत एक उपयोगी लेकिन पूरी तरह से बौद्धिक अवधारणा है

 

कोई भी मरना नहीं चाहता है। यहां तक ​​कि जो लोग स्वर्ग में जाना चाहते हैं वे भी  मरना नहीं चाहते हैं। लेकिन फिर भी मृत्यु एक ऐसा चीज है जो  सबको आनी ही हैं। इससे कोई भी नहीं बच सका है। और वैसा होना भी चाहिए, क्योंकि मौत जीवन का सबसे अच्छा आविष्कार है। यह जीवन का परिवर्तन एजेंट है. यह नए लोगो के लिए रास्ता बनाने के लिए पुरानो को साफ करता है. अभी आप नए हैं, लेकिन एक दिन, आप भी धीरे-धीरे बूढ़े हो जाएंगे और दुनियां से साफ़ हो जाएंगे। ड्रामा करने की लिए माफी चाहता हूँ लेकिन बस यही सत्य है…

आपका समय सीमित है, इसलिए इसे किसी और की जिन्दगी जीकर  बर्बाद नहीं करना चाहिए. दुसरो की आवाज़ मत सुनो खुद के अंदर की आवाज़ सुनो वह ज्यादा जरूरी है । अंदर की आवाज़ तुम्हे ज्यादा मज़बूत बनाती है. और सबसे महत्वपूर्ण है , अपने दिल और अंतर्ज्ञान का पालन करने का साहस होना ।

 

जब मैं छोटा था, तो एक अद्भुत प्रकाशन था जिसे द होल अर्थ कैटलॉग कहा जाता था, जो मेरी पीढ़ी के बाइबल में से एक था। यह स्टीवर्ट ब्रांड नाम के एक साथी द्वारा बनाया गया था और उन्होंने अपने काव्य स्पर्श से  इसे जिवंत बनाया । यह 1960 के दशक के अंत में, पर्सनल कंप्यूटर और डेस्कटॉप से पहले था, इसलिए यह टाइपराइटर, कैंची और पोलरॉयड कैमरों से बना था। यह आदर्शवादी था, और महान विचारों से भरा  था

 

स्टीवर्ट और उनकी टीम ने द होल अर्थ कैटलॉग के  कई issues को प्रस्तुत किया, और फिर अंतिम  issue को प्रस्तुत किया । यह 1970 के दशक का मध्य था, और मैं आपकी उम्र का था. द होल अर्थ कैटलॉग की अंतिम किताब के पीछे के कवर पर सुबह की तस्वीर का एक चित्र था, जिसके निचे लिखा था : “Stay Hungry. Stay Foolish.” “यह उनका विदाई संदेश था.  मैंने हमेशा खुद के लिए यही कामना की है। और अब आप ग्रेजुएट होने जा रहे है तो मै आपको भी यही कहता हूँ – “Stay Hungry. Stay Foolish.”

 

दोस्तों उम्मीद करते है आपको Steve jobs की motivational speech पसंद आई होगी. तो देर किस बात की इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें. औ साथ ही हमारे आने वाले सभी आर्टिकल को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री subscribe करें और हमारा फेसबुक पेज like करें.

 

यह भी जाने

Shahrukh Khan – A Best Motivational Speech On Fear Of Failure

Motivational story of Stephen hawking in hindi स्टीफन हॉकिंग की प्रेरणादायक कहानी

संदीप माहेश्वरी के 20 प्रेरणादायक सुविचार sandeep maheshwari quotes in hindi

One Response

  1. Rambharat October 25, 2018

Leave a Reply