तीन खिलोने और जिंदगी की एक बड़ी सीख

एक शिक्षक ने  अपने एक छात्र को तीन खिलौने दिखाए और छात्र को इनमे अंतर पहचानने के लिए कहा. तीनो खिलौने एक ही आकार और सामग्री से बने  लग रहे थे । छात्र उन्हें देखकर काफी देर तक सोचता रहा और उसके  बाद, उसने खिलोने में छेद देखा। एक खिलौने के कान में छेद था, दुसरे खिलोने के कान और मुंह में छेद था और तीसरे खिलोने में केवल एक कान में एक छेद था.उसने अपने अध्यापक को इसके बारे में बताया. यह सुनकर शिक्षक मुस्कुराएँ और छात्र को तीनो खिलोनो के कान में सुई डालने को कहा. छात्र ने वैसा ही किया.  छात्र ने सुई को पहले खिलोने के कान के छेद में डाला और सुई दूसरे कान से बाहर आ गई. दूसरे खिलौने में, जब सुई कान में डाली , तो सुई मुंह से निकल गई. तीसरे खिलौने में, जब सुई डाली तो  सुई बाहर नहीं आई।

यह देखकर अध्यापक ने कहा – यह था तो एक खेल ही ही लेकिन अगर हम इसका मतलब समझ जाये तो  हमें जिंदगी की एक बड़ी सीख मिल सकती है.

पहला खिलौना हमारे आस-पास के उन लोगों को दर्शाता है, जो इस बात का आभास करवाते है कि वे हमारी  बात सुन रहे हैं,  उन्हें हमारी परवाह है. वे हमारे शुभ चिन्तक है । लेकिन वे सिर्फ ऐसा करने का ढोंग करते हैं. सुनने के बाद, जैसे कि सुई अगले कान से बाहर निकलती है,  आपकी बाते भी उनके लिए वैसे ही दिमाग से बाहर निकल जाती है  इसलिए. अपने आसपास के इस प्रकार के लोगों से बात करते संमय  सावधान रहें.

दूसरा खिलौना उन लोगों का प्रतिनिधित्व करता है जो आपकी सभी बातो को सुनते हैं और कहते है  कि वे आपकी परवाह करते हैं लेकिन जैसे  खिलौने के  मुंह से सुई बाहर आती है,  ये लोग भी उसी तरह  आपकी बातों और शब्दों को अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करते है. आप ऐसे लोगो पर विश्वास नहीं कर सकते. इस तरह के लोग  अपने स्वयं के उद्देश्य के लिए आपके गोपनीय मुद्दों को आप ही  खिलाफ इस्तेमाल करते है.

 

तीसरे  खिलोने में सुई अन्दर तो गई लेकिन  बाहर नहीं आई ।  यह उन लोगो को दर्शाता जो आपके सच्चे हितेषी है, जो हमेशा आपके भले के बारे में सोचते है. ये लोग आपकी बातो को सुनते और समझते है और अपने तक ही सिमित रखते है. ये वे हैं जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं।

 

दोस्तों हमारी जिंदगी में भी कुछ ऐसा ही होता है. हम कई बार लोगो की पहचान नहीं कर पाते की कौन हमारे साथ है और कौन हमारे खिलाफ.  और जब पता चलता है तो काफी देर हो चुकी होती है. इसलिए हमेशा याद रखे की आपका सच्चा शुभचिंतक वही है जो आपकी हाँ में हाँ न मिलकर हमेशा आपका मार्ग दर्शन करता हो.

 

उम्मीद करते है आपको यह moral  story पसंद आई होगी . कृपया कमेंट्स के जरिये अपने विचार शेयर करे और हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें.

 

यह भी जाने 

रिटायर्ड शिक्षक और बीमा एजेंट की कहानी Best Moral story in hindi

कमजोरियां को बदले मजबूतियों में inspirational story of handicapped boy in hindi

तेनालीराम की चतुराई Tenali Raman story in hindi

बकरा शादी और बुजुर्ग की चतुराई – moral story in hindi

Leave a Reply