जानिए केरल में हुई लाल रंग की बारिश का रहस्य red rain in kerala

भारत विविधताओ का देश है जहाँ हर 15 किलोमीटर पर बोली और संस्कृति दोनों बदल जाती है और यही भारत को और भी खास बनाता है. जब इस भारत में ऐसा कुछ होता है जो लोगो के समझ में नही आता यानि एक दिन कुछ ऐसी घटना होती है जिस पर यकीन करना थोडा मुश्किल है तो काफी हैरानी होती है . हम बात कर रहे है लाल रंग की बारिश की. क्या लाल रंग की बारिश/ Red rain हो सकती है ??? लेकिन ये सच है की 5 जुलाई  2001 को केरल में लाल रंग की बारिश हुई थी. इस लाल रंग की बारिश का रहस्य अब तक सामने नही आया है. वैज्ञानिक इस बात को अब तक नही समझ पाए है की ये लाल रंग की बारिश/ Red rain कैसे हुई.

 

वहां के लोगो का मानना था कि वो बारिश खुन की बारिश थी यानि आसमान से बरसता खुन. हालाकिं हम इस बात की पुष्टि नही कर सकते  की वो खुन था या कुछ और…

 

चलिए अब इस बात को विज्ञानं से जोड़ कर समझने की कोशिश करते है.

 

 Scientific reason behind Red rain in Kerala

 

जिस दिन केरल में लाल बारिश/ Red rain देखी गई ठीक उसी दिन वहा के लोगो ने हरे और पीले रंग की बारिश भी देखी थी जिससे पहले वैज्ञानिको को ये लगा की ये असमान से रंग बिरंगा पानी बरसना कोई बड़ी बात नही है. यह बारिश और  pollution के मिलने से ऐसा हो रहा है यानि उपर गया pollution बारिश के साथ नीचे आ रहा है या फिर ये किसी उल्का का असर भी हो सकता है जो बारिश के साथ धरती पर आ रहा है.

लेकिन जब उस लाल पानी को टेस्ट किया गया तो पाया की ये उल्का और pollution का नतीजा नही है बल्कि उस पानी में जीवन होने के साक्ष्य मिले यानि वो वो सिर्फ लाल पानी नही था. अब जब साफ़ हो गया था की ये सिर्फ लाल पानी नही है बल्कि कुछ ऐसा है जिससे खुन बना है तो वैज्ञानिको ने उसमे डीएनए तलाशने की कोशिश की पर वो असफल रहे.

इस लाल बारिश पर अन्तराष्ट्रीय स्तर पर खोजबीन स्टार्ट हो गई और 2012 में वैज्ञानिको को इस लाल बारिश में कुछ डीएनए के सैंपल दिखाई देने लगे.

इसके बाद अन्तराष्ट्रीय स्तर पर एक बहस भी शुरू हो गई और कई रिपोर्ट्स में बताया गया की इसका सम्बन्ध एलियन से है. अब ये बात सच में सोचने पर मजबूर करती है की ऐसी वर्षा दुनिया में और कही नही हुई और न ही इस तरह की कोई और चीज़ धरती पर उपलब्ध है या इससे पहले या इसके बाद धरती पर ऐसा कुछ दुबारा नही हुआ… तो वो क्या हो सकता है ????

यही कारण है की आज तक किसी भी वैज्ञानिक को समझ नही आया की वो क्या था..

 

NOTE –  इसके बारे में ओर अधिक जानकारी आप विकिपीडिया से जान सकते है.

 

इसी तरह की मजेदार और अजब गजब खबरों को पढने के लिए हमारी वेबसाइट गजब बात को फ्री सब्सक्राइब करे और हमारा फेसबुक पेज लाइक करे. Keep visiting on gazab baat

 

एक और प्यार की निशानी है बुलंद शहर का ताजमहल Taj Mahal in Bulandshahr

Leave a Reply