महाभारत से जुडी रोचक अनसुनी बाते जो आपको हैरान कर देंगी

वेदव्यास द्वारा रचित महाभारत एक ऐसा महाकाव्य है जिससे बारे में हमारे देश का बच्चा बच्चा जानता है.  महाभारत की लोकप्रियता का अंदाजा  इ बात से लगाया जा सकता है की आज भी आप हर एक दो साल बात महाभारत के ऊपर बने टीवी सीरियल को अलग अलग चैनल पर देख सकते है. कहानी वही होती है लेकिन दिखाने के  तरीके अलग और फिर भी लोग इसे उतना ही पसंद करते है. हम सभी जानते है की किस प्रकार दुर्योधन की महत्वकांशा और लालच ने भाइयो के बीच आपसी  युद्ध को निमत्रण दिया.  लेकिन इस लेख में हम आपको महाभारत/ mahabharat की कहानी नहीं बल्कि महाभारत के कुछ ऐसे रोचक तथ्य बताएँगे जिसके आपके बारे में आपने शायद नहीं सुना होगा.  तो देर किस बात की आइये जानते है

 

Interesting facts about mahabharat in hindi – महाभारत  से जुडी रोचक अनसुनी बाते

 

facts about mahabharat in hindi

 

एकलव्य का पुनर्जन्म था द्रौपदी का भाई धृष्टद्युम्न

 

क्या आप जानते है द्रोणाचार्य का वध करने वाले द्रौपदी के भाई धृष्टद्युम्न वास्तव में एकलव्य का पुनर्जन्म थे . कहानी के अनुसार जब भगवान कृष्ण ने विवाह हेतु  देवी रुक्मणी का अपहरण किया तब उनका सामना एकलव्य से हुआ. उस समय एकलव्य जरासंध के सेनापति थे. इस युद्ध में श्री कृष्ण के हाथो एकलव्य ने वीरगति प्राप्त की.  उस समय  कृष्ण ने उन्हें आशीर्वाद दिया की अगले जन्म वह द्रोणाचार्य से अपना बदला ले सकेंगे.

 

 

तो कृष्ण के भाई थे एकलव्य

 

कई लोगो को यह बात जानकार हैरानी होगी की एकलव्य वास्तव में कृष्ण के चचेरे भाई थे. एकलव्य देवश्रवा (वासुदेव के भाई) के पुत्र थे जो उनसे जंगल में खो गए थे. बाद में इनका लालन पोषण निशाद हिरण्यधनु ने किया.

 

 

पहले टेस्ट ट्यूब बेबी थे द्रोणाचार्य 

 

द्रोणाचार्य  के जन्म से एक मजेदार कहानी जुडी है. कथा के अनुसार द्रोणाचार्य  के पिता महर्षि भारद्वाज थे जो एक बार नदी में स्नान कर रहे थे. तभी उन्हें घृताची नामक एक अप्सरा दिखाई दी जिन्हें देखकर वे आकर्षित हो गए. और उनके शरीर से शुक्राणु निकल गए. इन्हें भारद्वाज ने एक पात्र (द्रोण) में जमा कर दिया जिससे द्रोणाचार्य  का जन्म हुआ.

 

 

महाभारत के लेखक वेदव्यास भी थे महाभारत के एक पात्र

 

जी हां. महाभारत की रचना करने वाले वेदव्यास भी महाभारत/ mahabharat का ही एक भाग थे.  राजा शांतनु से शादी करने से पहले सत्यवती का ऋषि पराशर द्वारा मिलन से जन्मा  एक पुत्र था . कहानी के अनुसार  ऋषि पराशर सत्यवती को देखकर मन्त्र मुग्ध हो गए और उनसे मिलना की इच्छा जाहिर की.   पराशर  को अनुमति देने से पहले, सत्यवती ने उनसे तीन इच्छाओं की मांग की;  इनमें से एक थी कि उनके संघ से  जन्मा पुत्र महान ऋषि के रूप में प्रसिद्ध हो. इसके बाद सत्यवती ने यमुना में एक द्वीप पर एक पुत्र को जन्म दिया। इस पुत्र को कृष्ण द्वैपायन  कहा जाता था,  जो बाद में वेदव्यास के नाम से प्रसिद्ध हुए  – वेदों के संकलक और पुराणों और महाभारत के लेखक।

 

 

सभी कौरव नहीं थे पांडवो के खिलाफ

 

ऐसा नहीं है की सभी के सभी कौरव एक जैसे थे और पांडवो के विरुद्ध थे. धृतराष्ट्र के दो पुत्र, विकर्ण और युयुत्सु ने न सिर्फ दुर्योधन के गलत  कार्यों पर आपति जताई बल्कि  द्रोपदी चीरहरण का भी काफी विरोश किया. ये दोनों युद्ध के पक्ष में भी नहीं थे लेकिन भाई से धोखा न कर इन्होने मज़बूरी में युद्ध किया और वीरगति प्राप्त की.

 

 

यमराज का अवतार थे विदुर

 

धर्म शास्त्रों का ज्ञाता और धृतराष्ट्र के भाई और मत्री विदुर यमराज के अवतार माने जाते है. महाभारत/ mahabharat के अनुसार माण्डव्य ऋषि के श्राप के कारण यमराज को इंसान के रूप में जन्म लेना पड़ा.

 

 

तो इसलिए भाग नहीं ले पाया दुर्योधन द्रौपदी स्वयंवर में

 

दुर्योधन मह्त्वकांशी होने के बावजूद भी अपने वचन का पक्का था. कथा के अनुसार दुर्योधन ने अपनी पत्नी भानुमती को वचन दिया था की वह कभी दूसरी शादी नहीं करेगा. उस काल में एक से ज्यादा शादी करने का प्रचलन था. इसके बावजूद दुर्योधन ने अपना वचन निभाया और कभी दूसरा विवाह नहीं किया.

 

 

दोस्तों उम्मीद करते है आपको mahabharat से जुड़े रोचक facts जरुर पसंद आये होंगे. इन्हें शेयर करना न भूले. अगर आप भी हमारे आने वाले सभी रोचक आर्टिकल सीधे अपने मेल मी पाना चाहते है तो हमें फ्री subscribe जरुर करें और हमारा फेसबुक पेज like करें.

 

यह भी जाने 

इस नदी का पानी छुने से ही नष्ट हो जाते है सारे पूण्य – कर्मनाशा नदी क्यों है अपवित्र

जानिए शनि शिंगणापुर के बारे में जहाँ नहीं होते है किसी भी घर में दरवाजे

जानिए क्या है जोधपुर सोनिक बूम का रहस्य Jodhpur sonic boom mystery in hindi

जानिए कर्नाटक के sanskrit village के बारे में mattur village in hindi

जानिए केरल में हुई लाल रंग की बारिश का रहस्य red rain in kerala

One Response

  1. sameer September 13, 2018

Leave a Reply