पब्जी गेम लोगो के लिए फ्री है लेकिन कैसे करती है करोडो का कारोबार …

साल में एक बार हमारे एंड्राइड फ़ोन में एक ऐसा गेम आता है जो जोक की तरह हमसे चिपक जाता है. ये एक नशे की तरह है इसलिए जब भी टाइम मिलता है हम ऐसे GAMES खेलने लग जाते है.  एंग्री बर्ड, टेम्पल रन, कैंडी कर्ष और पोकिनोम गो इस तरह की गेम्स के उदाहरण है. इसी तरह आजकल एक एंड्राइड गेम का विज्ञापन टीवी और हर जगह देखने को मिल रहा है और हमारे युवा साथियों को भी इस गेम की लत लग गई है और  वो गेम है पब्जी/PUBG.

ये गेम प्ले स्टोर से फ्री में डाउनलोड कर के हम खेल सकते है लेकिन अब सवाल यह है कि अगर हम ये गेम फ्री में डाउनलोड कर के खेल रहे है तो गेम बनाने वाली कम्पनी को कैसे फायदा हो रहा है? क्या उसे गूगल पैसे दे रहा है  या फिर गेम में किसी विज्ञापन के जरिये वह कंपनी पैसे कमा रही है? ये फ्री की games कैसे पैसे कमाती है? इस तरह के कुछ सवालों के जवाब हम आपको बतायेंगे…

 

दरअसल ऑनलाइन गेम्स को दो भागो के बाटा गया है एक है प्रीमियम जिसमे हम गेम डाउनलोड करने के पैसे देते है और फिर हमारी गेम्स डाउनलोड होती है उसके बाद हम गेम का मज़ा ले सकते है. तो वही दूसरा है फ्री-मियम जिसमे हम गेम फ्री में डाउनलोड करते है और गेम का मज़ा लेते है. इसके अलावा गेम अच्छी है या नही इसका पता उसके डाउनलोड संख्या के आधार पर लगाया जाता है.

गेम्स बनाने वाली कंपनिया ज्यातर फ्री-मियम गेम बनाना पसंद करती है जिसमे लोग गेम को डाउनलोड करते है खेलना शुरू करते है लेकिन जैसे-जैसे गेम आगे बढता है यानि गेम का लेवल बढ़ता जाता है वैसे-वैसे गेम मुश्किल होता जाता है और पैसे का खेल भी वही से शुरू होता है यानि जब गेम खेलने वाला व्यक्ति किसी एक लेवल को पार नही कर पाता तो वह पैसे से कुछ ऐसी पॉवर खरीद सकता है जिससे वो उस लेवल को आसानी से पार कर आगे बढ़ सकता है.

इस प्रोसेस को और क्रिएटिव बनाने के लिए गेम बनाने वालो ने  गेम में वर्चुअल करेंसी बनायीं जैसे सिक्के या डालर आदि जिसे गेम खेलने वाला प्लेयर कामता है और उन कमाए हुए सिक्को से वो कोई नयी पॉवर या फिर अपने प्लेयर की लाइफ खरीदता है और अगर वो सिक्के नही कमा पा रहा तो वो पैसे दे कर भी उन सिक्को को खरीद सकता है जैसे 100 रूपये में हो सकता है उस प्लेयर को 1000 सिक्के मिल जाए जिसे वो लेवल पार करने, पॉवर खरीदने या फिर लाइफ खरीदने के लिए खर्च करता है.

 

 

पैसे दे कर किसी गेम को फ्री- मियम कैटेगरी से प्रीमियम में लाने वालो की संख्या बहुत कम है शायद ये गेम डाउनलोड संख्या का 2% या 5% हो. लेकिन ये 2% या 5% इतने लोग है की कम्पनी को अच्छा खासा फायदा हो जाता है.  दरअसल ये वो लोग है जिनको उस गेम की लत लग गई है और ये उस गेम को खेलने के लिए पैसे देने को भी तैयार है.

 

इसके अलावा games कई और तरह से भी पैसे कमाती है जिसमे शामिल है –

 

विज्ञापन: वीडियो ads, native ads, display  ads और बैनर के जरिये

 

स्पोंसरशिप के जरिये

 

ईमेल मार्केटिंग के जरिये

 

सब्सक्रिप्शन के जरिये

 

डेटा एकत्र करने और बेचने के जरिये

 

Affiliate income and referral marketing

 

तो दोस्तों उम्मीद है आपको समझ आ गया होता की फ्री एंड्राइड games  कैसे पैसे कमाती है और क्या है इनका बिज़नस मॉडल. इसी तरह के और इंटरेस्टिंग आर्टिकल पढने के लिए बने रहिये गज़ब बात डॉट कॉम के साथ.

 

यह भी जाने

whatsapp का कुछ इस तरीके से इस्तेमाल करते है भारतीय लोग

ऑनलाइन खरीदारी और पैसो की बचत Online shopping tips to save money in hindi

कैश देने के अलावा और क्या कर सकती है ATM मशीन

यूट्यूब के बारे में रोचक तथ्य Interesting facts about YouTube in hindi

Leave a Reply