हम क्यों छींकते है, छींकने के प्रमुख कारण और प्रक्रिया causes of sneezing in hindi

0

हम सभी छींकते है और अचानक ही छींकते है. कभी रस्ते पर चलते वक्त तो कभी मसाले की दुकान पर, कभी फूल सूंघते वक्त तो कभी घर पर बैठे बैठे ही हम छींक मार देते है. और फिर हमारे मुहँ से यह निकलता है की यार हम छींकते क्यों है. आपने यह भी महसूस किया होगा की जब हम छींकते है तो हमारी आँखे भी बंद हो जाती है. कई लोग तो कुछ अवसर पर छींक आना शुभ या अशुभ भी मानते है. तो इस पोस्ट में हम इसी के बारे में आपको बतायेंगे की छींक आने के पीछे कुछ कारण होते है और छींक कैसे आती है. अत: शुभ अशुभ के चक्करो में ना फंसते हुए हमें इसके कारणों को समझना चाहिये.

छींक आने के कारण (causes of sneezing)

ऐसी चीजे या कण जो आपके नाक के अन्दर जाकर गुदगुदी या परेशानी पैदा करे छींक आने का कारण होते है. इनमे शामिल है धूल, मसाले या पुष्प आदि के कण. ठंडी हवाओ में या किसी पालतू पशु के निकट जाने पर भी आप छींक मार सकते है. जब हमें सर्दी लग जाती है तब भी हम छींके मारते है.

नाक शरीर का ऐसा अंग होता है जो हवा के आने और बाहर जाने को नियँत्रित करता है. यह ये भी सुनिश्चित करता है की हम साफ और स्वच्छ साँसे ले. कभी कभी हवा में मौजूद कुछ कण हमारे लिए अनुचित होते है और हमें छींकने के लिए मजबूर कर देते है जैसे धुल, मिर्च या मसाला, फूल. छींकते वक्त ये कण जो हमारे नाक में फुरफुराहट और गुदगुदी पैदा कर देते है हमारे नाक से निकल जाते है.

 

छींकना सर्दी के कारण

हमारा नाक काफी संवेदनशील अंग होता है, इसमें mucus membrane होती है, इसकी कोशिकाये (cells) और उत्तक (tissue) काफी सेंसिटिव होते है. सर्दी या जुकाम होने की वजह से इस mucus membrane में सुजन (swelling) हो जाती है. इस कारण इसकी कोशिकाओ और उत्तको में सरसराहट होने लगती है इससे हमे छींक आती है.

 

किस प्रक्रिया के द्वारा हम छींकते है (process of sneezing in hindi)

किसी अनुचित कण जैसे धुल का हमारी नाक में घुस जाने से  हमारे नाक में गुदगुदी पैदा होती है तब नाक से हमारे मस्तिष्क के विशेष भाग में एक मेसेज जाता है और तब मस्तिष्क सभी माँसपेशियो को ये मेसेज देता है की इन कणों को बाहर निकाले या कहे की दिमाग सभी माँसपेशियो के साथ मिलकर छींकने की प्रक्रिया पूरी करता है.  इस दौरान ये कण हमारे शरीर के मुंह और नाक के दरवाजे से तेज रफ़्तार (एक घंटे में लगभग 160 किलोमीटर) से बाहर आते है. इससे हमारे शरीर मे एक कंपन पैदा होता है और हमारी आँखे भी बंद हो जाती है.

 

रोचक बाते जाने

केरल में लाल रंग की बारिश क्यों हुई

जोधपुर सोनिक बूम का रहस्य क्या है

जानिये किस के बारे में रोचक तथ्य

 


दोस्तों आशा करते है आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी. आप अपने विचार या सुझाव हमें comments के जरिये दे सकते है. हमारे आने वाले सभी आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री में subscribe करें और हमारा फेसबुक पेज like करें


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here