ब्रह्मा ने क्यों किया अपनी पुत्री सरस्वती से विवाह

हिन्दू धर्म शास्त्रों में ब्रह्मा को ब्रह्माण्ड का रचियता माना जाता है, उनकी पुत्री का नाम सरस्वती था, पर क्या आप जानते है उन्होंने अपनी पुत्री से ही विवाह कर लिया था. अगर नहीं तो इस लेख के माध्यम से हम आपको बतायेंगे की कैसे ब्रह्मा ने अपनी ही पुत्री के साथ विवाह कर लिया था. हिंदू पौराणिक कथाओं में हमें सरस्वती की उत्पत्ति से संबंधित दो कहानियो का उल्लेख प्राप्त होता हैं. ये पौराणिक ग्रन्थ है सरस्वती पुराण और मत्स्य पुराण जो हमें ये जानकारी प्रदान करते है.

ब्रह्मा और सरस्वती का विवाह और कहानियाँ why brahma married from his own daughter in hindi

सरस्वती पुराण के अनुसार, उन्होंने अपनी सुंदर पुत्री सरस्वती को अपनी महत्वपूर्ण ताकत से बनाया। कुछ ग्रंथों में यह भी बताया गया है कि जब ब्रह्मा ने अपनी आंखें खगोलीय सौंदर्य उर्वशी पर जमाकर हस्तमैथुन किया था, तो बर्तन में पढ़े ब्रह्मा के वीर्य ने सरस्वती को जन्म दिया। सरस्वती को ब्रह्मा के वीर्य से बनाया गया था, इस प्रकार, उनकी कोई मां नहीं थी

उनकी बेटी सरस्वती विद्या की देवी है। जब ब्रह्मा ने सरस्वती की सुंदरता को देखा तो वह उनकी सुन्दरता देख कर मोहित हो गये। सरस्वती के लिए उनकी इच्छा बढ़ गई, अपने पिता के भावुक दृष्टिकोण से बचने के लिए, सरस्वती भाग गयी और चारों दिशाओं में छिप गइ, लेकिन वह अपने पिता से बच नहीं सकती थी।

आखिरकार वह ब्रह्मा की इच्छा के आगे झुक गई, ब्रह्मा और उनकी बेटी सरस्वती 100 वर्षों तक पति और पत्नी के रूप में रहे। उन्हें एक पुत्र स्वयंभु मनु की प्राप्ति भी हुई। यह धरती के प्रथम मानव थे. यह माना जाता है की उन्होने वेदो, सनातन धर्म और संस्कृत समेत अन्य भाषाओ को भी जन्म दिया.

मत्स्य पूराण की कथा

हालांकि, मत्स्य पुराण के अनुसार, एक समय था जब भगवान ब्रह्मा अकेले थे तब ब्रह्मांड मौजूद नहीं था। वह साथी की तलाश में थे तदनुसार, उन्होंने तीन स्त्रियों को पैदा किया। पौराणिक कथाओं में इनका नाम सांध्य, ब्रह्मी और सरस्वती मिलता है, जिनका जन्म ब्रह्मा के मुंह से हुआ था। सरस्वती इनमे सबसे सुंदर थी, ब्रह्मा इनसे काफी आकर्षित हो गये और अपनी दृष्टि उन्ही पर जमाये रखते थे, उनके इस घूरने से बचने के लिये, सरस्वती चारो दिशाओ मे छिपने लगी लेकिन उनसे बच ना सकी. अंतत: वह आकाश में जाकर छीप गयी लेकिन उन्होने अपने पांचवे सर से सरस्वती को आकाश मे भी खोज लिया. फिर उन्होंने सरस्वती से सृष्टि की रचना में सहयोग माँगा जिसके कारण दोनों का विवाह हो गया.

 

यह संबंधित लेख भी जाने

जानिये क्यों नहीं होती ब्रह्माजी की पूजा

जानिये भगवान गणेश को एकदंत क्यों कहा जाता है

जानीये कामाख्या मंदिर की कथाये

जानिये जौहर और साका प्रथा के बारे में

नरक की वैतरणी नदी के भयानक रास्ते के बारे में जानिये

 


दोस्तों उम्मीद करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा. तो फिर इसे जरुर शेयर करें. अगर आप इस टॉपिक पर अपने विचार देना चाहते है तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स के जरिये अपनी बात रखे और साथ ही हमारे आने वाले सभी आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री मे सब्सक्राइब जरुर करें

Leave a Reply